कोरोना पर काबू पाने में मददगार है कोविड टीके की एहतियाती डोज : सीएमओ

0
14

-कोविड गाइडलाइन के अनुसार पूर्ण टीकाकरण भी सभी के लिए जरूरी

-दूसरी डोज से वंचित लोगों की तैयार हो रही सूची

गोंडा,

जिले में 15 से 18 वर्ष के किशोर-किशोरियों तथा हेल्थ केयर एवं फ्रंटलाइन वर्कर के साथ-साथ 60 साल से अधिक उम्र के गंभीर बीमारी से ग्रसित लोगों को प्री-कॉशन डोज शत-प्रतिशत लगाये जाने के उद्देश्य अधिक से अधिक सत्र स्थल लगाया जा रहा है | कोरोना पर पूरी तरह से काबू पाने के लिए पहले और दूसरे डोज के साथ प्री-कॉशन डोज (एहतियात डोज) बेहद जरूरी है | यह कहना है जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आरएस केसरी का | उनका कहना है कि कोरोना की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए कोविड गाइडलाइन के अनुसार पूर्ण टीकाकरण भी जरूरी है ‌| उन्होंने जनपद में कोविड टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाने को लेकर जरूरी कदम उठाए जाने के निर्देश भी अधिकारियों और कर्मचारियों को दिए हैं |

सीएमओ ने कहा कि इस समय कोरोना संक्रमण तेजी से फ़ैल रहा है। ऐसे में सावधानी बरतना बेहद जरूरी है, जिन लोगों ने अभी तक किन्ही कारणों से टीके की एक भी डोज नहीं लगवाई है, वह जल्द से जल्द बिना किसी देरी के टीका लगवा लें। उन्होंने सभी से निःशुल्क टीकाकरण का लाभ उठाने की अपील भी की |

महामारी विशेषज्ञ हसन इफ़्तेख़ार ने बताया कि एहतियाती डोज कोरोना संक्रमण से बचाव करेगा। नगर क्षेत्र एवं समस्त सोलह ब्लॉकों में टीकाकरण कार्यक्रम पर लगातार ध्यान दिया जा रहा है। कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण व मास्क दोनों ही जरूरी हैं। टीका लगवाने का फायदा यह है कि यदि कोरोना वायरस का संक्रमण लग भी जाए तो लक्षण मामूली होते हैं और अस्पताल में भर्ती होने की संभावना कम होती है। उपचार से बेहतर है बचाव, यह बात सभी को ध्यान में रखना चाहिए।

जिले में कोविड टीकाकरण की स्थिति
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ जय गोविन्द के अनुसार, 28 जनवरी 2022 तक जिले में 15 से 17 साल की आयु वर्ग के 2 लाख 40 हजार 841 के लक्ष्य के सापेक्ष 01 लाख 98 हजार 250 यानी 82.32 फीसदी किशोर-किशोरियों को टीका लगाया जा चुका है | वहीं 18 से 44 वर्ष तक के 23 लाख 97 हजार 695 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है । इस आयु वर्ग के 91.15 फीसदी लोगों को टीके की पहली डोज व 56.57 फीसदी लोगों को बूस्टर डोज दी गई है । 45 से 59 वर्ष के 10 लाख 31 हजार 768 व्यक्तियों को टीका लगाया है । इस आयु वर्ग के 121.36 फ़ीसदी लोगों को पहली डोज जबकि 97.53 फीसदी व्यक्तियों को दोनों डोज दिया जा चुका है | इसके अलावा हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंट लाइन वर्कर व 60 वर्ष से ऊपर के कुल 20 हजार 283 लोगों को टीके की प्री-कॉशन डोज दे दी गयी है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here