बंथरा थाने में तैनात इंस्पेक्टर अजय प्रताप व उनके असिस्टेंट सिपाही अवध किशोर के बिगड़े बोल

0
698

लखनऊ बंथरा थाने में तैनात महिला सब इंस्पेक्टर हसीना खातून को अपने हलके में हो रहा खनन रोकना पढ़ा भारी

सब इंस्पेक्टर हसीना खातून पहले भी इसी थाने में इमानदारी परचम लहरा चुकी है और मिसाल पेश करने वाली हसीना खातून पहले भी इसी थाने में कई ईमानदारी के परचम लहरा चुकी है लेकिन आज हद तो तब हो गई जब बंथरा थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर महिला हसीना खातून अपने हल्के में खनन की सूचना पर पहुंची है जब खनन माफियाओं से उसकी कुछ जानकारी मांगती है तभी योगी जी की मित्र पुलिस का नारा देने वाले एक छोटा सा सिपाही थाना इस्पेक्टर से भी बड़ा साहब बनकर हसीना खातून को थाने से ट्रांसफर कराने की धमकी तक दे देता है वही बात यहां खत्म नहीं होती इस सिपाही कांस्टेबल अवध किशोर फोन करके हसीना खातून को बोलता है उल्टे पैर वहां से चले आओ तुम्हारा टाइम पूरा हो चुका है और तुम्हारा ट्रांसफर भी अभी थाना सरोजिनी नगर में हो चुका है जैसे ही हसीना थाने पहुंचते हैं तभी फिर फोन आता है सिपाही अवध किशोर का जाइए आपको इस्पेक्टर साहब ने तत्काल ऑफिस में बुलाया है जैसे ही हसीना खातून साहब के ऑफिस में दाखिल होती है वैसे एक संवैधानिक कुर्सी पर बैठे स्पेक्टर अजय प्रताप सिंह आपत्तिजनक बातें मर्यादाओं को तार-तार कर कर कहते हैं अब जो तुमको करना है कर लीजिए पर तुमको यहां रहने का कोई अधिकार नहीं महिला रोती हुई बाहर आती है अपने इस्तीफे की गुहार लगा देती है बात यहीं खत्म नहीं होती क्या उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री की पुलिस यही महिलाओं के प्रति संदेश देती रहेगी जहां उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री व देश के प्रधानमंत्री का नारा हो बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ फिर भी एक संवैधानिक कुर्सी पर कुर्सी पर बैठे रक्षक ही बन बैठे भक्षक और इमानदारी का परचम लहराने वाली हसीना खातून को क्या अब पुलिस की वर्दी उतरानी पड़ेगी क्योंकि जिस तरह से उनके साथ सौतेला व्यवहार किया गया है यह आम जनता तो देखी रही है लेकिन उच्च अधिकारियों के कानों में कब जू रेंगी गी

बता दें कि लखनऊ के बंथरा थाने थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर हसीना खातून ने इंस्पेक्टर अजय प्रताप व सिपाही अवध किशोर पर गंभीर आरोप लगाए हैं. महिला सब इंस्पेक्टर ने अपने ही थाने में शिकायत दी है कि थाने में तैनात इंस्पेक्टर ने तब हदें पार कर दी जब अपने ऑफिस में बुलाकर उसके साथ आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग क्या भारत दंड अपराध में कोई इन महोदय को भी सजा का प्रावधान है या नहीं यहां तक उसके साथ छेड़छाड़ की गई. क्या फिर इसको एक मुस्लिम महिला होने के नाते जो उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाने की की बातें की है क्या थाना में इंस्पेक्टर के खिलाफ मुस्लिम महिला एक्ट और भारतीय दंड संहिता लगना चाहिए यहाँ नही

परिजनों ने आरोप लगाया कि पुलिस के कुछ अधिकारी और इंस्पेक्टर के कुछ साथी उसे बचाने की कोशिश कर रहे हैं जहा परिजनों में आक्रोश व्याप्त है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here